Latest News Weekly lockdown: यूपी में संडे को वीकली लॉकडाउन, कोरोना पर योगी के 10 बड़े निर्देश घर जाने का इंतजार कर रहे प्रवासियों के लिए राहत भरी की खबर… ये हैं देश के सबसे प्रतिष्ठित साइबर वॉरियर, जानें CQ-100 में कौन-कौन हैं शामिल योगी सरकार का ‘आगरा मॉडल’ हुआ ध्वस्त,मेरठ और कानपुर भी आगरा बनने की राह पर: अजय कुमार लल्लू बाबा साहेब के संविधान से छेड़छाड़ बर्दाश्त नहीं : अजय कुमार लल्लू
Home / अमेठी : 2 साल के बच्चे को लेकर दर-दर भटकते माता पिता, नहीं मिल रही है स्वास्थ्य सेवाएं

अमेठी : 2 साल के बच्चे को लेकर दर-दर भटकते माता पिता, नहीं मिल रही है स्वास्थ्य सेवाएं

अमेठी में पोलियो का मामला सामने आया है नहीं मिल रही है स्वास्थ्य सेवाएं 1076 पर शिकायत करने के बाद आंगनबाड़ी केंद्र में हुआ नामांकन 2 साल के बच्चे को लेकर दर-दर भटकते माता पिता बाल विकास विभाग भी उदासीन Report : Arun Gupta  अमेठी | सरकार पल्स पोलियो जैसे अभियान पर लगातार जोर दे […]

  • अमेठी में पोलियो का मामला सामने आया है
  • नहीं मिल रही है स्वास्थ्य सेवाएं
  • 1076 पर शिकायत करने के बाद आंगनबाड़ी केंद्र में हुआ नामांकन
  • 2 साल के बच्चे को लेकर दर-दर भटकते माता पिता
  • बाल विकास विभाग भी उदासीन

Report : Arun Gupta 

अमेठी | सरकार पल्स पोलियो जैसे अभियान पर लगातार जोर दे रही है।उस को जड़ से उखाड़ फेंकने की कवायद कर रही है।लेकिन फिर भी कहीं ना कहीं कोई कमी दिखाई पड़ रही है। जिसके चलते पोलियो के मामले सामने आ रहे हैं ।अभी हाल में ही अमेठी जनपद के संग्रामपुर ब्लाक अंतर्गत ग्राम सभा पुन्नपूर के गांव मोरे सिंह का पुरवा में एक 2 साल का बच्चा है। जो एक तरह से शारीरिक रूप से विकलांग है अभी ना वह बैठ पाता है ना चल पाता है।

कुल मिलाकर उसका पैर पोलियो ग्रस्त है।उसके पिता ने बताया कि उसके बच्चे के साथ लापरवाही की जा रही है। गांव में आशा बहू आती ही नहीं है। जब उसने संग्रामपुर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर संपर्क किया। तब 1076 पर शिकायत करने के बाद उसको शनिवार को बुलाया गया। इसी के बाद उसके बच्चे का आंगनबाड़ी केंद्र में पंजीकरण भी हुआ है। उनका कहना है कि मुझको इससे कोई लाभ नहीं मिल रहा है। कहीं ना कहीं मेरे बच्चे के साथ लापरवाही की जा रही है। वहीं पर जब गांव के आंगनबाड़ी केंद्र की कार्यकत्री से बात किया गया तो उसने बताया की उसकी मां का रजिस्ट्रेशन गर्भवती होने के समय से ही है। उनको बराबर पुष्टाहार दिया जा रहा है। बच्चे का टीकाकरण किया जा रहा है। वह बाहर से इलाज करा रहे हैं। हमारे यहां इलाज कराने के लिए गए ही नहीं। रही बात पल्स पोलियो की तो उसकी दवाई बराबर पिलाई जा रही है। लेकिन हो कुछ भी कहीं ना कहीं किसी स्तर पर यह चूक हुई है। जिसके चलते पोलियो का वायरस बच्चे में एक्टिव हो गया है।