Latest News Kanpur: 32 साल पहले पाकिस्तान से भारत आया परिवार, पहचान छिपाई, घर भी बना लिया और मिल गई सरकारी नौकरी , अब कोर्ट ने लिया संज्ञान Weekly lockdown: यूपी में संडे को वीकली लॉकडाउन, कोरोना पर योगी के 10 बड़े निर्देश घर जाने का इंतजार कर रहे प्रवासियों के लिए राहत भरी की खबर… ये हैं देश के सबसे प्रतिष्ठित साइबर वॉरियर, जानें CQ-100 में कौन-कौन हैं शामिल योगी सरकार का ‘आगरा मॉडल’ हुआ ध्वस्त,मेरठ और कानपुर भी आगरा बनने की राह पर: अजय कुमार लल्लू
Home / जमीन को लेकर हुए हत्याकांड में अपनी जमीन तलाशने में जुटी कांग्रेस

जमीन को लेकर हुए हत्याकांड में अपनी जमीन तलाशने में जुटी कांग्रेस

REPUBLIC DESK: जमीन को लेकर हुए हत्याकांड में मारे गए आदिवासियों के परिजनों से मिलने के लिए प्रियंका गांधी वाड्रा  सोनभद्र पहुंच गई हैं. वहीं उनके इस दौरे पर उत्तर प्रदेश सरकार में मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने कहा है कि कांग्रेस मुद्दा तलाशने की कोशिश कर रही है. गौरतलब है कि कुछ दिन पहले जमीन कब्जा करने के […]

REPUBLIC DESK: जमीन को लेकर हुए हत्याकांड में मारे गए आदिवासियों के परिजनों से मिलने के लिए प्रियंका गांधी वाड्रा  सोनभद्र पहुंच गई हैं. वहीं उनके इस दौरे पर उत्तर प्रदेश सरकार में मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने कहा है कि कांग्रेस मुद्दा तलाशने की कोशिश कर रही है. गौरतलब है कि कुछ दिन पहले जमीन कब्जा करने के विवाद में 10 आदिवासियों को मौत के घाट उतार दिया गया था.

इस हत्याकांड की वजह से उत्तर प्रदेश की राजनीति गरमा गई थी और कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी पीड़ितों से मिलने के लिए सोनभद्र पहुंच गई. लेकिन वह उम्भा गांव पहुंच पातीं कि प्रशासन ने उन्हें पहले ही हिरासत में ले लिया.</span

>

 

लेकिन प्रियंका गांधी भी वहीं धरने पर बैठ गईं. उन्हें चुनार गेस्ट हाउस लाया गया जहां वह पूरे 48 घंटे तक धरने पर बैठी रहीं. लेकिन उन्हें पीड़ितों से नहीं मिलने दिया गया. प्रशासन का कहना था कि उनके उम्भा गांव से माहौल और बिगड़ सकता है. लेकिन बाद में पीड़ितों की ओर से दो लोगों ने चुनार गेस्ट हाउस पहुंचकर मुलाकात की. 

 

प्रियंका गांधी ने उनसे मिलकर मदद का आश्वासन दिया और कांग्रेस पार्टी की ओर से भी आर्थिक मदद का ऐलान किया गया. वहीं बाद में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी सोनभद्र पहुंच कर पीड़ितों का हाल जाना और आरोप लगाया कि जमीन का यह विवाद कांग्रेस के शासनकाल के समय का है.