Latest News Kanpur: 32 साल पहले पाकिस्तान से भारत आया परिवार, पहचान छिपाई, घर भी बना लिया और मिल गई सरकारी नौकरी , अब कोर्ट ने लिया संज्ञान Weekly lockdown: यूपी में संडे को वीकली लॉकडाउन, कोरोना पर योगी के 10 बड़े निर्देश घर जाने का इंतजार कर रहे प्रवासियों के लिए राहत भरी की खबर… ये हैं देश के सबसे प्रतिष्ठित साइबर वॉरियर, जानें CQ-100 में कौन-कौन हैं शामिल योगी सरकार का ‘आगरा मॉडल’ हुआ ध्वस्त,मेरठ और कानपुर भी आगरा बनने की राह पर: अजय कुमार लल्लू
Home / पूर्व गृह राज्यमंत्री स्वामी चिन्मयानंद हॉस्पिटल से डिस्चार्ज, जमानत अर्जी खारिज

पूर्व गृह राज्यमंत्री स्वामी चिन्मयानंद हॉस्पिटल से डिस्चार्ज, जमानत अर्जी खारिज

पूर्व गृह राज्यमंत्री पर आरोप लगाने वाली छात्रा की जमानत भी नामंजूर, रंगदारी मांगने का है इल्जाम शाहजहांपुर के जिला सत्र न्यायालय में हुई सुनवाई, सीजेएम कोर्ट से दोनों की जमानत अर्जी पहले भी खारिज हो चुकी है शाहजहांपुर। छात्रा से दुष्कर्म के आरोपों से घिरे पूर्व गृह राज्यमंत्री स्वामी चिन्मयानंद को सोमवार शाम एसजीपीजीआई से डिस्चार्ज […]

  • पूर्व गृह राज्यमंत्री पर आरोप लगाने वाली छात्रा की जमानत भी नामंजूर, रंगदारी मांगने का है इल्जाम
  • शाहजहांपुर के जिला सत्र न्यायालय में हुई सुनवाई, सीजेएम कोर्ट से दोनों की जमानत अर्जी पहले भी खारिज हो चुकी है

शाहजहांपुर। छात्रा से दुष्कर्म के आरोपों से घिरे पूर्व गृह राज्यमंत्री स्वामी चिन्मयानंद को सोमवार शाम एसजीपीजीआई से डिस्चार्ज कर दिया गया। जमानत अर्जी खारिज होने पर देर रात उन्हें शाहजहांपुर जेल भेज दिया गया। 

चिन्मयानंद और रंगदारी मामले में जेल में बंद एसएस लॉ कॉलेज की छात्र की जमानत अर्जी पर सोमवार को जिला सत्र न्यायालय में सुनवाई हुई। कोर्ट ने दोनों की जमानत अर्जी खारिज कर दी है। तबियत बिगड़ने के बाद चिन्मयानंद को जेल से पीजीआई लखनऊ में भर्ती करवाया गया था, वहीं छात्रा जेल में बंद है। सीजेएम कोर्ट से दोनों की जमानत अर्जी पहले भी खारिज हो चुकी है। 
 

छात्रा के वकील अनूप द्विवेदी ने बताया कि उन्होंने जमानत के लिए 26 सितंबर को जिला एवं सत्र न्यायाधीश की कोर्ट में प्रार्थना पत्र दिया था, जिसे एडीजेएम प्रथम सुधीर कुमार की कोर्ट में ट्रांसफर कर दिया गया था। एडीजेएम ने जमानत पर सुनवाई के लिए 30 सितंबर की तारीख मुकर्रर की थी। चिन्मयानंद के वकील ने भी जिला सत्र न्यायालय में उनकी जमानत के लिए 24 सितंबर को अर्जी लगाई थी।

मामले में कब क्या हुआ?
23 अगस्त को छात्रा हॉस्टल से लापता हो गई थी। 24 अगस्त को छात्रा का एक वीडियो सामने आया था, जिसमें उसने अपहरण और यौन शोषण का आरोप लगाया था। 25 अगस्त को छात्रा के पिता ने चिन्मयानंद के खिलाफ अपहरण और धमकी देने का मामला दर्ज कराने के लिए पुलिस को तहरीर दी थी। 26 अगस्त को चिन्मयानंद के वकील ने अज्ञात के खिलाफ पांच करोड़ रुपए की फिरौती मांगने की रिपोर्ट दर्ज कराई।

छात्रा रंगदारी प्रकरण में जेल में
30 अगस्त को छात्रा को उसके एक दोस्त के साथ पुलिस ने राजस्थान से बरामद किया। उसी दिन छात्रा को सुप्रीम कोर्ट में पेश किया गया। यौन शोषण के आरोपों को लेकर 12 सितंबर को एसआईटी ने चिन्मयानंद से करीब सात घंटे तक पूछताछ की थी। 20 सितंबर को एसआईटी ने चिन्मयानंद को उनके आश्रम से गिरफ्तार कर लिया था। जबकि 25 सितंबर को एसआईटी ने रंगदारी प्रकरण में छात्रा को गिरफ्तार कर 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया।