Latest News Weekly lockdown: यूपी में संडे को वीकली लॉकडाउन, कोरोना पर योगी के 10 बड़े निर्देश घर जाने का इंतजार कर रहे प्रवासियों के लिए राहत भरी की खबर… ये हैं देश के सबसे प्रतिष्ठित साइबर वॉरियर, जानें CQ-100 में कौन-कौन हैं शामिल क्या आप या आपके नेटवर्क में है कोई Cyber Expert? इन 5 कैटिगरी में हो रहा है ऑल इंडिया ऑनलाइन सर्वे, आज ही करें नॉमिनेशन अफसरों की ट्रांसफर-पोस्टिंग कराने के नाम पर पैसे ऐठने वाले कथित पत्रकार को एसटीएफ़ ने किया गिरफ्तार
Home / झूठे आतंकिस्तान ने अबतक 2050 बार किया है सीजफायर का उल्लंघन

झूठे आतंकिस्तान ने अबतक 2050 बार किया है सीजफायर का उल्लंघन

नई दिल्ली। पाकिस्तान की ओर से इस साल अब तक 2050 बार सीजफायर तोड़ा जा चुका है जिसमें 21 लोगों की जान गई है. यह जानकारी आज केंद्र सरकार की ओर से दी गई है. केंद्र सरकार के एक प्रवक्ता ने बताया कि पाकिस्तान की ओर से कई बार कहा गया है कि वह साल 2003 […]

नई दिल्ली। पाकिस्तान की ओर से इस साल अब तक 2050 बार सीजफायर तोड़ा जा चुका है जिसमें 21 लोगों की जान गई है. यह जानकारी आज केंद्र सरकार की ओर से दी गई है. केंद्र सरकार के एक प्रवक्ता ने बताया कि पाकिस्तान की ओर से कई बार कहा गया है कि वह साल 2003 में हुए समझौते का पालन करे. आपको बता दें कि केंद्र सरकार की ओर से यह जानकारी उस समय आई है जब पाकिस्तान की ओर से संयुक्त राष्ट्र में भारत पर जम्मू-कश्मीर में मानवाधिकार के उल्लंघन का आरोप लगाया है.

केंद्र सरकार के प्रवक्ता ने कहा, ‘ हमने सीमा पार से फायरिंग और घुसपैठ कराने और भारतीय नागरिकों को निशाना बनाने की कोशिशों पर चिंता जताई है’. प्रवक्ता ने आगे कहा, ‘इस साल उनकी ओर से 2050 बार सीजफायर का उल्लंघन किया गया है जिसमें 21 लोगों की जानें गई हैं. हमने कई बार पाकिस्तान को फोन करके कहा है कि वह अपने सैनिकों को 2003 में हुए समझौते का पालन करने के लिए कहे.’

इसके साथ ही प्रवक्ता ने यह भी कहा कि भारतीय सेना की ओर से पाकिस्तान की ओर से की जा रही फायरिंग और घुसपैठ की कोशिशों का मुंहतोड़ जवाब दिया जा रहा है. आपको बता दें कि पाकिस्तान ने पिछले हफ्ते ही जम्मू-कश्मीर के मुद्दे पर कई अंतरराष्ट्रीय मंचों पर उठा चुका है. इसके साथ ही संयुक्त राष्ट्र की मानवाधिकार परिषद में भी भारत पर आरोप लगाते हुए यह मुद्दा उठा चुका है.  वहीं भारत ने जवाब दिया है कि पाकिस्तान को ‘उन्मादी बयानों’ और ‘गलत अवधारणा’ के साथ जम्मू-कश्मीर के मुद्दे पर बोलने का कोई अधिकार नहीं है.