होम / प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर महिला डॉक्टर लापता, महिला सुपरवाइजर करवा रही प्रसव

प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर महिला डॉक्टर लापता, महिला सुपरवाइजर करवा रही प्रसव

HIGHLIGHT  कलम के पुजारी अगर सो गए तुम,  वतन के लुटेरे वतन बेच देंगे बिना महिला डॉक्टर के अनाधिकृत तरीके से महिला सुपरवाइजर द्वारा करवाया जा रहा प्रसव आखिर कब तक जारी रहेगा यह भ्रष्टाचार ? बाराबंकी | आखिर कोई बताएगा बिना महिला डॉक्टर के अनाधिकृत तरीके से इसी जनपद में लगभग 35 वर्ष से तैनात […]

HIGHLIGHT 

  • कलम के पुजारी अगर सो गए तुम,  वतन के लुटेरे वतन बेच देंगे
  • बिना महिला डॉक्टर के अनाधिकृत तरीके से महिला सुपरवाइजर द्वारा करवाया जा रहा प्रसव
  • आखिर कब तक जारी रहेगा यह भ्रष्टाचार ?

बाराबंकी | आखिर कोई बताएगा बिना महिला डॉक्टर के अनाधिकृत तरीके से इसी जनपद में लगभग 35 वर्ष से तैनात महिला सुपरवाइजर कब तक प्रसव कराती रहेगी शिकायत के बाद एक दो बार इस महिला सुपरवाइजर का ट्रांसफर भी किया गया तो वह भी घुमा फिरा कर इसी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के लगभग 10 किलोमीटर के अंदर तैनाती दी गई और कुछ समय बाद ही पुनः फिर वापस इसी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र सुबेहा पर तैनाती कर दी गई आखिर क्यों इस पूरे मामले की जानकारी मुख्य चिकित्सा अधिकारी बाराबंकी डॉ रमेश चंद्रा को दी गई परंतु आज तक कोई कार्यवाही नहीं की गई इस प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र सुबेहा की स्वास्थ्य सेवाएं दिन-ब-दिन बदतर होती चली जा रही हैं माननीय मुख्यमंत्री महोदय जी के आदेश कि ज्यादा दिन एक ही जनपद में कोई भी सरकारी कर्मचारी नहीं रह सकता है इस आदेश को स्वास्थ्य विभाग बाराबंकी ठेंगा दिखा रहा है

सुबेहा बाराबंकी…

बाराबंकी जनपद के नगर पंचायत सुबेहा में प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर बिना महिला डॉक्टर के आए दिन सुपरवाइजर द्वारा अनाधिकृत तरीके से प्रसव कराया जा रहा है जोकि इस क्षेत्र की जनता के साथ बहुत बड़ा अन्याय है यह खेल स्वास्थ्य विभाग के संरक्षण में हो रहा है क्षेत्र की जनता द्वारा बार-बार शिकायती प्रार्थना पत्र देने के बाद भी आज तक प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र सुबेहा में महिला डॉक्टर की तैनाती नहीं की गई जिसके चलते सुपरवाइजर द्वारा अनाधिकृत तरीके से महिलाओं का प्रसव कराया जा रहा है इसकी शिकायत जब चिकित्सा अधिकारी डॉ धर्मेंद्र राय हैदर गढ़ से की गई तो सही जवाब ना दे करके गोलमाल कर मामले को टाल देते हैं इस पूरे मामले की जानकारी मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ रमेश चंद्रा बाराबंकी को होने के बावजूद भी अभी तक कोई कार्यवाही नहीं की गई