Latest News Weekly lockdown: यूपी में संडे को वीकली लॉकडाउन, कोरोना पर योगी के 10 बड़े निर्देश घर जाने का इंतजार कर रहे प्रवासियों के लिए राहत भरी की खबर… ये हैं देश के सबसे प्रतिष्ठित साइबर वॉरियर, जानें CQ-100 में कौन-कौन हैं शामिल क्या आप या आपके नेटवर्क में है कोई Cyber Expert? इन 5 कैटिगरी में हो रहा है ऑल इंडिया ऑनलाइन सर्वे, आज ही करें नॉमिनेशन अफसरों की ट्रांसफर-पोस्टिंग कराने के नाम पर पैसे ऐठने वाले कथित पत्रकार को एसटीएफ़ ने किया गिरफ्तार
Home / बच्चों को तनाव प्रबंधन के ये 5 टिप्स दें, जीवन खुशहाल रहेगा

बच्चों को तनाव प्रबंधन के ये 5 टिप्स दें, जीवन खुशहाल रहेगा

आज की जीवनशैली में, बड़ों से लेकर बच्चों तक, हर कोई तनाव से जूझ रहा है। बच्चों पर पढ़ाई का बोझ बढ़ रहा है, ऐसे में उन्हें जल्द से जल्द बताया जाना चाहिए कि तनाव का सामना कैसे किया जाए। योग या व्यायाम करें परीक्षा के दौरान बच्चों का तनाव बढ़ जाता है। कभी-कभी उच्च […]

आज की जीवनशैली में, बड़ों से लेकर बच्चों तक, हर कोई तनाव से जूझ रहा है। बच्चों पर पढ़ाई का बोझ बढ़ रहा है, ऐसे में उन्हें जल्द से जल्द बताया जाना चाहिए कि तनाव का सामना कैसे किया जाए।

योग या व्यायाम करें

परीक्षा के दौरान बच्चों का तनाव बढ़ जाता है। कभी-कभी उच्च तनाव के कारण, वे पढ़ाई पर ध्यान नहीं दे पाते हैं। तनाव से बचने के लिए बच्चों को योग, व्यायाम या मॉर्निंग वॉक करने के लिए कहें।

बच्चों को दें स्ट्रेस मैनेजमेंट के ये 5 टिप्स, खुशहाल रहेगी जिंदगी

शौक को बढ़ाएं

पढ़ाई का बोझ बच्चों पर कितना भी हो, उन्हें शौक के लिए जरूर प्रोत्साहित करना चाहिए। इसके कारण बच्चों का दिमाग शांत रहता है और वे पढ़ाई पर ज्यादा ध्यान दे पाते हैं।

बच्चों को दें स्ट्रेस मैनेजमेंट के ये 5 टिप्स, खुशहाल रहेगी जिंदगी

अच्छी किताबें दें

कोर्स की किताबों के अलावा, बच्चों को कुछ अच्छी किताबें पढ़ने दें, ताकि उनकी सोच का दायरा बढ़ाया जा सके।

Related image

कॉमेडी फिल्में दिखाओ

भावनात्मक रूप से स्वस्थ रहना बहुत जरूरी है। जब भी समय मिले बच्चों को कॉमेडी फिल्में या कार्टून देखने दें। मस्ती से तनाव दूर होता है। तनाव कम करने से बच्चे पढ़ाई पर ठीक से ध्यान केंद्रित कर पाएंगे।

बच्चों को दें स्ट्रेस मैनेजमेंट के ये 5 टिप्स, खुशहाल रहेगी जिंदगी

बच्चों का समर्थन करें

बच्चों के लिए माता-पिता का समर्थन बहुत महत्वपूर्ण है। उनके सहयोग से बच्चों का आत्मविश्वास बढ़ा है। पढ़ाई या शौक के हर क्षेत्र में अपने बच्चों का साथ दें। इससे उन्हें आगे बढ़ने का साहस मिलेगा।