Latest News Weekly lockdown: यूपी में संडे को वीकली लॉकडाउन, कोरोना पर योगी के 10 बड़े निर्देश घर जाने का इंतजार कर रहे प्रवासियों के लिए राहत भरी की खबर… ये हैं देश के सबसे प्रतिष्ठित साइबर वॉरियर, जानें CQ-100 में कौन-कौन हैं शामिल क्या आप या आपके नेटवर्क में है कोई Cyber Expert? इन 5 कैटिगरी में हो रहा है ऑल इंडिया ऑनलाइन सर्वे, आज ही करें नॉमिनेशन अफसरों की ट्रांसफर-पोस्टिंग कराने के नाम पर पैसे ऐठने वाले कथित पत्रकार को एसटीएफ़ ने किया गिरफ्तार
Home / अलविदा सुषमा: आखिरी समय में भी कुलभूषण के लिए ये कर गई सुषमा स्वराज

अलविदा सुषमा: आखिरी समय में भी कुलभूषण के लिए ये कर गई सुषमा स्वराज

THE REPUBLIC INDIA। पूर्व विदेश मंत्री और भारतीय जनता पार्टी की दिग्गज नेता रहीं सुषमा स्वराज पाकिस्तान की जेल में बंद कुलभूषण जाधव से जुड़े मामले पर नजर बनाए हुए थीं. यही कारण है कि विदेश मंत्री न होने के बावजूद वह कुलभूषण जाधव के वकील हरीश साल्वे के साथ लगातार जुड़ी हुई थीं. बताया […]

THE REPUBLIC INDIA पूर्व विदेश मंत्री और भारतीय जनता पार्टी की दिग्गज नेता रहीं सुषमा स्वराज पाकिस्तान की जेल में बंद कुलभूषण जाधव से जुड़े मामले पर नजर बनाए हुए थीं. यही कारण है कि विदेश मंत्री न होने के बावजूद वह कुलभूषण जाधव के वकील हरीश साल्वे के साथ लगातार जुड़ी हुई थीं. बताया जाता है कि निधन से एक घंटे पहले उन्होंने हरीश साल्वे को उनकी 1 रुपये फीस देने के लिए बुलाया था. साल्वे ने हेग स्थित अंतरराष्ट्रीय न्यायालय (आईसीजे) में जाधव मामले की सुनवाई के दौरान भारत का प्रतिनिधित्व 1 रुपये की फीस पर किया था.

सुषमा स्वराज के निधन के बाद हरीश साल्वे ने एक टीवी चैनल से बातचीत में बताया कि सुषमा स्वराज ने उनसे करीब एक घंटे पहले ही बात की थी. उन्होंने बताया कि ‘8:50 बजे पूर्व विदेश मंत्री से उनकी बात हुई थी. यह बहुत ही भावनात्मक बातचीत थी. फोन पर सुषमा स्वराज ने कहा, आओ और मुझसे मिलो. जो केस आपने जीता उसके लिए मुझे आपको आपका एक रुपया देना है. मैंने कहा कि बेशक मुझे वह कीमती फीस लेने के लिए आना है. उन्होंने कहा कि कल 6 बजे आना.’

गौरतलब है कि पाकिस्तान ने जाधव को मार्च 2016 में पकड़ा था और अप्रैल 2017 में पाकिस्तान की सैन्य अदालत ने उन्हें भारतीय जासूस और आतंकवादी बताकर मौत की सजा सुनाई थी. इस मामले में पाकिस्तान भारतीय अधिकारियों को उनसे मिलने की अनुमति भी नहीं दे रहा है. पाकिस्तान की सैन्य अदालत में जाधव को मौत की सजा सुनाए जाने के बाद भारत ने आईसीजे में मामला उठाया था.