Latest News Weekly lockdown: यूपी में संडे को वीकली लॉकडाउन, कोरोना पर योगी के 10 बड़े निर्देश घर जाने का इंतजार कर रहे प्रवासियों के लिए राहत भरी की खबर… ये हैं देश के सबसे प्रतिष्ठित साइबर वॉरियर, जानें CQ-100 में कौन-कौन हैं शामिल क्या आप या आपके नेटवर्क में है कोई Cyber Expert? इन 5 कैटिगरी में हो रहा है ऑल इंडिया ऑनलाइन सर्वे, आज ही करें नॉमिनेशन अफसरों की ट्रांसफर-पोस्टिंग कराने के नाम पर पैसे ऐठने वाले कथित पत्रकार को एसटीएफ़ ने किया गिरफ्तार
Home / गोरखपुर: वैदिक मंत्रोच्चार के बीच गोरखनाथ मन्दिर में हुआ राज्यपाल का स्वागत

गोरखपुर: वैदिक मंत्रोच्चार के बीच गोरखनाथ मन्दिर में हुआ राज्यपाल का स्वागत

गोरखपुर। उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल चाहती हैं कि प्रदेश के सभी विश्वविद्यालय पांच-पांच और कालेज एक-एक गांव को गोद लें. ऐसा हुआ तो पूरे प्रदेश में उच्च शिक्षा की सूरत बदल जाएगी. आने वाली कार्य परिषद की बैठक में इस पर निर्देश भी दिए जाएंगे. मदन मोहन मालवीय प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय में आयोजित दीक्षांत […]

गोरखपुर उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल चाहती हैं कि प्रदेश के सभी विश्वविद्यालय पांच-पांच और कालेज एक-एक गांव को गोद लें. ऐसा हुआ तो पूरे प्रदेश में उच्च शिक्षा की सूरत बदल जाएगी. आने वाली कार्य परिषद की बैठक में इस पर निर्देश भी दिए जाएंगे.

मदन मोहन मालवीय प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय में आयोजित दीक्षांत समारोह में उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए कुलाधिपति आनंदीबेन पटेल ने कहा कि सफलता प्राप्त करने का मूल मंत्र आत्मविश्वास है. वास्तविक जीवन में भी लोग सफल नहीं होते हैं बुनियादी और परिश्रमी होते हैं बल्कि वह सफल होते हैं जो अत्यधिक कुशल होते हैं.

पंडित दीनदयाल उपाध्याय के विचारों को उद्धृत करते हुए राज्यपाल ने कहा कि पंडित दीन दयाल उपाध्‍याय कहते थे कि जो विदेशों से ग्रहण करिए उसे देशानुकूल बना कर लीजिए जबकि जो अपने देश की चीज विदेशों में भेजिए उसे युगा अनुकूल बना कर दीजिए. आज हमें उसी सिद्धांत पर काम करना होगा.

वैदिक मंत्रोच्चार के बीच गोरखनाथ मन्दिर में हुआ राज्यपाल का स्वागत

मदन मोहन मालवीय प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के दीक्षा समारोह में हिस्सा लेने के बाद आनंदीबेन पटेल मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ गोरखनाथ मन्दिर पहुंचीं. मन्दिर परिसर में पहुंचते ही 201 वेदपाठियों ने वैदिक मंत्रोच्चार के बीच उनका स्वागत किया गया. मन्दिर में राज्यपाल ने सबसे पहले गुरु गोरक्षनाथ की पूरे विधि-विधान से पूजा-अर्चना की और उसके बाद ब्रह्मलीन महंत अवेद्यनाथ का आशीर्वाद लिया. पूजा के दौरान राज्यपाल के साथ मुख्यमंत्री भी मौजूद रहे.

Report By: Dhanesh Nishad