Latest News Weekly lockdown: यूपी में संडे को वीकली लॉकडाउन, कोरोना पर योगी के 10 बड़े निर्देश घर जाने का इंतजार कर रहे प्रवासियों के लिए राहत भरी की खबर… ये हैं देश के सबसे प्रतिष्ठित साइबर वॉरियर, जानें CQ-100 में कौन-कौन हैं शामिल क्या आप या आपके नेटवर्क में है कोई Cyber Expert? इन 5 कैटिगरी में हो रहा है ऑल इंडिया ऑनलाइन सर्वे, आज ही करें नॉमिनेशन अफसरों की ट्रांसफर-पोस्टिंग कराने के नाम पर पैसे ऐठने वाले कथित पत्रकार को एसटीएफ़ ने किया गिरफ्तार
Home / गुरुग्राम: तथाकथित army हिंदू सेना ’ने मांस की दुकानों को जबरन बंद कर दिया, नवरात्रि में इस मामले पर गुस्सा करने के लिए

गुरुग्राम: तथाकथित army हिंदू सेना ’ने मांस की दुकानों को जबरन बंद कर दिया, नवरात्रि में इस मामले पर गुस्सा करने के लिए

The Republic India Gurugram :  हरियाणा में, गुरुग्राम के कुछ इलाकों में, नवरात्रि के पहले दिन, कुछ लोग, जो खुद को हिंदू सेना का कार्यकर्ता बताते हैं, ने जबरन मीट की दुकानें बंद करवा दीं। कहा जा रहा है कि ये लोग हाथों में तलवार लेकर मीट की दुकानों पर पहुंचे। इन लोगों का तर्क […]

The Republic India Gurugram :  हरियाणा में, गुरुग्राम के कुछ इलाकों में, नवरात्रि के पहले दिन, कुछ लोग, जो खुद को हिंदू सेना का कार्यकर्ता बताते हैं, ने जबरन मीट की दुकानें बंद करवा दीं। कहा जा रहा है कि ये लोग हाथों में तलवार लेकर मीट की दुकानों पर पहुंचे।

इन लोगों का तर्क है कि नवरात्रि के दौरान क्षेत्र में मीट की दुकान खुलने के कारण यह विश्वास को चोट पहुँचाता है। ऐसे मामलों में, इन दुकानों को नौ दिनों के लिए बंद कर दिया जाना चाहिए, क्योंकि लोग पड़ोस से बाहर निकलते हैं और उन्हें समस्या होती है।

कांग्रेस उम्मीदवार उर्मिला मातोंडकर के खिलाफ भाजपा नेता की शिकायत, कहा: “हिंदुओं की भावनाएं आहत हुईं

हिंदू सेना के राज्य अध्यक्ष राकेश बंजारा कहते हैं, “नवरात्रि हिंदुओं का सबसे पवित्र त्योहार है। ये मांस-मछली की दुकानें हमारे धर्म के खिलाफ हैं। इसे 9 दिनों तक बंद रखें। इससे हमारे हिंदू भाइयों को तकलीफ होती है और हमारे सम्मान को ठेस पहुंचती है।” उन्होंने कहा कि तलवार के माध्यम से मांस की दुकानों पर जाना हमारा धर्म है और हम अगली बार भी तलवार लेंगे।

वहीं, हिंदू सेना की गुड़गांव इकाई की प्रमुख रितु राज ने बताया कि संगठन के सदस्य सेक्टर 4,5,7,9,10,21 और 22, पालम विहार, बादशाहपुर, ओमविहार, सूरत नगर, सदर बाजार , अनाज मंडी, धनवापुर, डोंहेरा, मौलाहिदा, सिकंदरपुर और कई अन्य स्थानों पर। समाचार लिखे जाने तक इन लोगों के खिलाफ कोई कानूनी कार्रवाई नहीं हुई थी।