Latest News Weekly lockdown: यूपी में संडे को वीकली लॉकडाउन, कोरोना पर योगी के 10 बड़े निर्देश घर जाने का इंतजार कर रहे प्रवासियों के लिए राहत भरी की खबर… ये हैं देश के सबसे प्रतिष्ठित साइबर वॉरियर, जानें CQ-100 में कौन-कौन हैं शामिल योगी सरकार का ‘आगरा मॉडल’ हुआ ध्वस्त,मेरठ और कानपुर भी आगरा बनने की राह पर: अजय कुमार लल्लू बाबा साहेब के संविधान से छेड़छाड़ बर्दाश्त नहीं : अजय कुमार लल्लू
Home / जेएनयू देशद्रोह केस में कन्हैया कुमार, उमर खालिद और अनिर्बान सहित 10 पर शुरू होगा मुकदमा

जेएनयू देशद्रोह केस में कन्हैया कुमार, उमर खालिद और अनिर्बान सहित 10 पर शुरू होगा मुकदमा

जेएनयू देशद्रोह केस में कन्हैया कुमार, उमर खालिद और अनिर्बान सहित 10 पर शुरू होगा मुकदमा केजरीवाल सरकार के प्रॉसिक्यूशन विभाग ने दिल्ली पुलिस को आज मुकदमा चलाए जाने की मंजूरी दे दी है पुलिस की चार्जशीट में बताया गया है कि इन सभी ने फरवरी 2016 को देशविरोधी नारेबाजी के समर्थन किया था नई […]

  • जेएनयू देशद्रोह केस में कन्हैया कुमार, उमर खालिद और अनिर्बान सहित 10 पर शुरू होगा मुकदमा
  • केजरीवाल सरकार के प्रॉसिक्यूशन विभाग ने दिल्ली पुलिस को आज मुकदमा चलाए जाने की मंजूरी दे दी है
  • पुलिस की चार्जशीट में बताया गया है कि इन सभी ने फरवरी 2016 को देशविरोधी नारेबाजी के समर्थन किया था

नई दिल्ली
केजरीवाल सरकार ने जेएनयू से जुड़े देशद्रोह केस में जेएनयूएसयू के पूर्व अध्यक्ष  कन्हैया कुमार , उमर खालिद सहित 10 आरोपियों के खिलाफ मुकदमा शुरू करने की मंजूरी आखिरकार दे दी। केजरीवाल सरकार के प्रॉसिक्यूशन डिपार्टमेंट ने पुलिस की स्पेशल सेल को मंजूरी दी है। यह मामला करीब एक साल से दिल्ली सरकार के अंदर लटका हुआ था और बीजेपी लंबे समय से दिल्ली सरकार पर सवाल उठा रही थी।

उल्लेखनीय है कि 19 फरवरी को दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा था कि देशद्रोह मामले में आरोपी कन्हैया कुमार व अन्य के खिलाफ मुकदमा चलाने को लेकर संबंधित विभाग से जल्द फैसले लेने कहा जाएगा। केजरीवाल का बयान तब आया था जब दिल्ली की एक अदालत ने उसी दिन आप सरकार को देशद्रोह केस में मुकदमा चलाने की मंजूरी के मुद्दे पर 3 अप्रैल तक स्टेटस दाखिल करने को कहा था। कोर्ट ने दिल्ली पुलिस से कहा कि वह सरकार को मुकदमा के मंजूरी देने की याद दिलाए।

मीडिया से बातचीत में केजरीवाल ने कहा था, ‘मुझे संबंधित विभाग (गृह) से कुछ कहने का अधिकार नहीं है। मैं विभाग का फैसला नहीं बदल सकता, लेकिन मैं उन्हें इसपर जल्द से जल्द फैसला लेने कहूंगा।’