Latest News Weekly lockdown: यूपी में संडे को वीकली लॉकडाउन, कोरोना पर योगी के 10 बड़े निर्देश घर जाने का इंतजार कर रहे प्रवासियों के लिए राहत भरी की खबर… ये हैं देश के सबसे प्रतिष्ठित साइबर वॉरियर, जानें CQ-100 में कौन-कौन हैं शामिल योगी सरकार का ‘आगरा मॉडल’ हुआ ध्वस्त,मेरठ और कानपुर भी आगरा बनने की राह पर: अजय कुमार लल्लू बाबा साहेब के संविधान से छेड़छाड़ बर्दाश्त नहीं : अजय कुमार लल्लू
Home / गरीबों को रोजगार देने वाला एक्ट महात्मा गांधी चढ़ा भ्रष्टाचार की भेंट 

गरीबों को रोजगार देने वाला एक्ट महात्मा गांधी चढ़ा भ्रष्टाचार की भेंट 

  हसनगंज | भले ही उत्तर प्रदेश की योगी सरकार उत्तर प्रदेश को भ्रष्टाचार मुक्त कर उत्तम प्रदेश के बनाने के भागीरथी प्रयास कर रही हो पर प्रदेश के भ्रष्टाचारी है कि मानने को तैयार ही नहीं और लगातार नए नए भ्रष्टाचार सामने आ रहे हैं। ताज़ा मामला उन्नाव की पमेधिया ग्राम पंचायत का है […]

 

हसनगंज | भले ही उत्तर प्रदेश की योगी सरकार उत्तर प्रदेश को भ्रष्टाचार मुक्त कर उत्तम प्रदेश के बनाने के भागीरथी प्रयास कर रही हो पर प्रदेश के भ्रष्टाचारी है कि मानने को तैयार ही नहीं और लगातार नए नए भ्रष्टाचार सामने आ रहे हैं। ताज़ा मामला उन्नाव की पमेधिया ग्राम पंचायत का है जहां के प्रधान ने महात्मा गांधी मनरेगा एक्ट में दर्जनों लोगों के फर्जी नाम डाल कर लाखों रुपए एक्ट से निकाल लिए।

प्रदीप वर्मा उपजिलाधिकारी

इस एक्ट के अंतर्गत गांव के लोगों के जाॅब कार्ड बनवा कर उन्हें काम दिया जाता है काम करवाने के बाद मजदूरी के रूप में इस एक्ट से भुगतान किया जाता है पर प्रधान ने फर्जी तरीके से ऐसे लोगों के नाम पर प्रधान ने फर्जी तरीके से ऐसे लोगों के नाम डाले जो कभी भी काम करने नहीं जाते और उनके खाते में रुपए पहुंच जाते हैं। कुछ तो ‌ऐसे लोगों के ‌भी नाम है पर उनका भी पैसा निकाला जा रहा है बस इन खाता धारकों को कुछ रुपए दे दिए जाते हैं बैंक से रुपए निकलवा लिए जाते है।
इस भ्रष्टाचार की शिकायत खण्ड विकास अधिकारी से लेकर जिलाधिकारी तक कि गई है। जिस पर उपजिलाधिकारी हसनगंज प्रदीप वर्मा ने जांच कर कड़ी कार्यवाही करवाने की बात कही है।

Report : Raghvendra Singh