Latest News Weekly lockdown: यूपी में संडे को वीकली लॉकडाउन, कोरोना पर योगी के 10 बड़े निर्देश घर जाने का इंतजार कर रहे प्रवासियों के लिए राहत भरी की खबर… ये हैं देश के सबसे प्रतिष्ठित साइबर वॉरियर, जानें CQ-100 में कौन-कौन हैं शामिल योगी सरकार का ‘आगरा मॉडल’ हुआ ध्वस्त,मेरठ और कानपुर भी आगरा बनने की राह पर: अजय कुमार लल्लू बाबा साहेब के संविधान से छेड़छाड़ बर्दाश्त नहीं : अजय कुमार लल्लू
Home / कानपुर: शहीद वायु सैनिक कपिलेश के अंतिम दर्शन को उमड़े लोग, नम आंखों से दी अंतिम विदाई

कानपुर: शहीद वायु सैनिक कपिलेश के अंतिम दर्शन को उमड़े लोग, नम आंखों से दी अंतिम विदाई

वारंट आफिसर का पार्थिव शरीर पहुंचते ही मचा कोहराम शहीद वायु सैनिक के अंतिम दर्शन को उमड़े लोग नम आंखों से दी लोगों ने अंतिम विदाई TheRepublicIndia: भारतीय वायु सेना में वारंट अफसर का पार्थिव शरीर जैसे ही पैतृक घर पहुचां को कोहराम मच गया. शहीद वायु सेना अफसर के अंतिम दर्शन के लिए परिजनों […]

  • वारंट आफिसर का पार्थिव शरीर पहुंचते ही मचा कोहराम
  • शहीद वायु सैनिक के अंतिम दर्शन को उमड़े लोग

  • नम आंखों से दी लोगों ने अंतिम विदाई

TheRepublicIndia: भारतीय वायु सेना में वारंट अफसर का पार्थिव शरीर जैसे ही पैतृक घर पहुचां को कोहराम मच गया. शहीद वायु सेना अफसर के अंतिम दर्शन के लिए परिजनों और आसपास के लोगों की भीड़ जुट गई. नेताओं और अफसरों ने भी अंतिम दर्शन किए और भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की. इसके बाद परिजन अंतिम संस्कार के लिए पार्थिव शरीर शिवराजपुर खेरेश्वर गंगा घाट पहुंचा.

असम के जोरहाट से तीन जून को भारतीय वायुसेना का एंटोनोव एएन-32 विमान उड़ान भरने के बाद रहस्मय ढंग से लापता हो गया था. विमान की तलाश की जिम्मेदारी इसरो और नौसेना ने भी शुरू की थी. इस विमान में चालक दल के 13 सदस्य सवार थे, जिनमें से कानपुर बिल्हौर उतरीपूरा के मूलनिवासी वारंट अफसर कपिलेश मिश्रा भी थे. विमान का पता न चलने से परिजन खासा चिंतित हो गए थे.

करीब दस दिन बाद 13 जून की सुबह विमान का मलबा मिलने के बाद उसमें सवार सभी लोगों की मौत की पुष्टि की गई थी. कपिलेश की मौत की सूचना मिलते ही घर में कोहराम मच गया था. परिजन उनका पार्थिव शरीर घर पहुंचने का इंतजार कर रहे थे. सभी औपचारिकताएं पूरी होने के बाद कपिलेश का पार्थिव शरीर पैतृक घर पहुंचा तो सभी की आंखें नम हो गईं. उनके अंतिम दर्शन के लिए परिजनों और आसपास के लोगों की भीड़ एकत्र हो गईं. जनप्रतिनिधियों और प्रशासनिक अफसरों ने भी पार्थिव शरीर पर पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजलि दी. परिजन अंतिम संस्कार के लिए पार्थिव शरीर शिवराजपुर खेरेश्वर गंगा घाट ले गए. भारतीय वायुसेना के जवानों ने शहीद अफसर को अंतिम सलामी दी. इसके बाद परिजनों ने अंतिम संस्कार किया. इस दौरान बड़ी संख्या में लोग अंतिम विदाई देने के लिए उमड़ते रहे.

आपको बता दें, 13 लोगों के साथ AN-32 मालवाहक विमान ने तीन जून की दोपहर 12.27 पर असम के जोरहाट से उड़ान भरी थी और एक बजे उसका संपर्क टूट गया था. पिछले आठ दिनों से एन-32 गायब था और भारतीय वायुसेना खोजने में जुटी थी.