Latest News Weekly lockdown: यूपी में संडे को वीकली लॉकडाउन, कोरोना पर योगी के 10 बड़े निर्देश घर जाने का इंतजार कर रहे प्रवासियों के लिए राहत भरी की खबर… ये हैं देश के सबसे प्रतिष्ठित साइबर वॉरियर, जानें CQ-100 में कौन-कौन हैं शामिल योगी सरकार का ‘आगरा मॉडल’ हुआ ध्वस्त,मेरठ और कानपुर भी आगरा बनने की राह पर: अजय कुमार लल्लू बाबा साहेब के संविधान से छेड़छाड़ बर्दाश्त नहीं : अजय कुमार लल्लू
Home / गोरखपुर में फर्राटा भरने को तैयार मेट्रो, राह में आ रही बाधाओं का समाधान

गोरखपुर में फर्राटा भरने को तैयार मेट्रो, राह में आ रही बाधाओं का समाधान

Report By: Dhanesh Nishad गोरखपुर। सीएम सिटी गोरखपुर में मेट्रो दौड़ाने को लेकर प्रक्रिया तेज हो गई है। प्रमुख सचिव आवास दीपक कुमार मेट्रो रूट देखकर उसकी राह में आ रही बाधाओं का समाधान करने पहुंचे हैं। प्रमुख सचिव ने सुबह-सुबह मोहद्दीपुर से धर्मशाला होते हुए तरंग क्रासिंग और गोरखनाथ तक निरीक्षण किया। इस दौरान […]

Report By: Dhanesh Nishad

गोरखपुर सीएम सिटी गोरखपुर में मेट्रो दौड़ाने को लेकर प्रक्रिया तेज हो गई है। प्रमुख सचिव आवास दीपक कुमार मेट्रो रूट देखकर उसकी राह में आ रही बाधाओं का समाधान करने पहुंचे हैं।

प्रमुख सचिव ने सुबह-सुबह मोहद्दीपुर से धर्मशाला होते हुए तरंग क्रासिंग और गोरखनाथ तक निरीक्षण किया। इस दौरान लखनऊ मेट्रो रेल कार्पोरेशन के निदेशक कुमार केशव भी उनके साथ थे। प्रमुख सचिव दीपक कुमार ने स्थानीय अधिकारियों से रूट की बाधाओं की जानकारी ली और समाधान के उपायों पर बात की। गोरखपुर में कुल 27 किलोमीटर की मेट्रो रेल परियोजना का प्रस्ताव है जिसके तहत मेट्रो के दो कॉरीडोर बनेंगे। एक कॉरीडोर गुलरिहा से कलेक्ट्रेट और दूसरा महेसरा के पास श्यामनगर से सूबा बाजार तक का होगा।

मेट्रो को गोरखपुर के विकास की रफ्तार से जोड़कर देखा जा रहा है। यह शहर आसपास के कई जिलों के लिए स्वास्थ्य, शिक्षा और व्यापार का प्रमुख केंद्र है। रोज बड़ी संख्या में लोग कामकाज और दूसरी आवश्यकताओं के लिए यहां आते हैं। ऐसे में सर्वसुलभ जनयातायात की आवश्यकता यहां लंबे समय से महसूस की जा रही थी। योगी आदित्यनाथ के मुख्यमंत्री बनने के बाद पहली बार गोरखपुर में मेट्रो की बात प्रस्ताव की शक्ल में सामने आई। मेट्रो मैन श्रीधरन ने भी गोरखपुर का निरीक्षण किया। अधिकारियों ने डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट तैयार की है। अब इसे अमली जामा पहनाने की तैयारी है।