Latest News Weekly lockdown: यूपी में संडे को वीकली लॉकडाउन, कोरोना पर योगी के 10 बड़े निर्देश घर जाने का इंतजार कर रहे प्रवासियों के लिए राहत भरी की खबर… ये हैं देश के सबसे प्रतिष्ठित साइबर वॉरियर, जानें CQ-100 में कौन-कौन हैं शामिल योगी सरकार का ‘आगरा मॉडल’ हुआ ध्वस्त,मेरठ और कानपुर भी आगरा बनने की राह पर: अजय कुमार लल्लू बाबा साहेब के संविधान से छेड़छाड़ बर्दाश्त नहीं : अजय कुमार लल्लू
Home / युवक की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत पर पुलिस ने नहीं लिखी एफआईआर

युवक की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत पर पुलिस ने नहीं लिखी एफआईआर

संवाददाता- अंकित कुशवाहा शुक्लागंज। सोमवार शाम अंबिकापुरम निवासी एक युवक की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई थी। परिजन हत्या का आरोप भी लगा रहे थे। सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पीएम के लिए भेजा था। लेकिन घटना के चैबीस घंटे बाद भी पुलिस ने मुकदमा दर्ज नहीं किया था। […]

संवाददाता- अंकित कुशवाहा

शुक्लागंज। सोमवार शाम अंबिकापुरम निवासी एक युवक की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई थी। परिजन हत्या का आरोप भी लगा रहे थे। सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पीएम के लिए भेजा था। लेकिन घटना के चैबीस घंटे बाद भी पुलिस ने मुकदमा दर्ज नहीं किया था।

मंगलवार को उसका शव पीएम होने के बाद घर पहुंचा। जिसके बाद गुस्साएं परिजन शव लेकर उन्नाव शुक्लागंज फोरलेन पर पहुंचे और बीच सड़क पर शव रखकर हंगामा काटने लगे। इस दौरान एक घंटे तक जाम लग गया। जाम की सूचना पर पहुंची पुलिस ने परिजनों को समझाने का प्रयास किया। इसके बावजूद जाम नहीं हट सका। जिसके बाद पालिकाध्यक्ष प्रतिनिधि पहुंचे और परिजनों को समझाया। जिसके बाद जाम हट सका। इस दौरान जाम में एम्बुलेंस भी फंसी रही।

अंबिकापुरम निवासी सतीश सविता (35) नेहरू नगर स्थित एक सर्राफा दुकान में कारीगरी का काम करता था। सोमवार शाम उसकी संदिग्ध हालत में मौत हुई थी। परिजनों ने हत्या का आरोप लगाया था। जिस पर पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पीएम के लिए भेजा था लेकिन चैबीस घंटे से अधिक का समय बीत जाने के बादवजूद गंगाघाट पुलिस ने अभी तक मुकदमा नहीं दर्ज किया। मंगलवार दोपहर करीब तीन बजे पीएम होने के बाद शव घर पहुंचा। शव देख परिजन दहाड़े मार कर रोने लगे और आक्रोशित लोगों ने शव नेहरू नगर के सामने राजधानी मार्ग पर रख कर जाम लगा दिया।

परिजनों का कहना था कि मृतक की पत्नी को मुआवजा दिया जाये साथ ही डीएम और एसपी मौके पर आये और न्याय दिलाये। करीब एक घंटे तक राजधानी मार्ग जाम रहा। लोगों ने जमकर हंगामा काटा। मौके पर पहुंची पुलिस ने जाम हटवाने का प्रयास किया लेकिन लोग नहीं माने और पुलिस पर लापवाही का आरोप लगाते रहे। जिसके बाद अध्यक्ष प्रतिनिधि राजेश गुप्ता गोल्डी ने मध्यस्ता किया और उन्होंने परिजनों को समझाया और शासन से आर्थिक मदद दिलाने की बात कही।

वहीं पोस्टमार्टम रिपोर्ट में अदरूनी चोटे आई हैं, इसके साथ ही जहरीला पदार्थ भी शरीर में पाया गया। इसलिए बिसरा सुरक्षित कर लिया गया है। इस दौरान जाम में स्कूली वाहन और कई एम्बुलेंस फंसी रही। शव हटने के बाद पुलिस ने काफी मशक्कत के बाद जाम हटवाया। जिसके बाद यातायात सामान्य हो सका।