Latest News Weekly lockdown: यूपी में संडे को वीकली लॉकडाउन, कोरोना पर योगी के 10 बड़े निर्देश घर जाने का इंतजार कर रहे प्रवासियों के लिए राहत भरी की खबर… ये हैं देश के सबसे प्रतिष्ठित साइबर वॉरियर, जानें CQ-100 में कौन-कौन हैं शामिल क्या आप या आपके नेटवर्क में है कोई Cyber Expert? इन 5 कैटिगरी में हो रहा है ऑल इंडिया ऑनलाइन सर्वे, आज ही करें नॉमिनेशन अफसरों की ट्रांसफर-पोस्टिंग कराने के नाम पर पैसे ऐठने वाले कथित पत्रकार को एसटीएफ़ ने किया गिरफ्तार
Home / शुक्लागंज: गंगा का जलस्तर बढ़ने पर प्रशासन अलर्ट, डीएम ने लिया जायजा

शुक्लागंज: गंगा का जलस्तर बढ़ने पर प्रशासन अलर्ट, डीएम ने लिया जायजा

शुक्लागंज, उन्नाव। गंगा का जलस्तर बढ़ने से रविदास नगर बस्ती के सामने कटान तेज हो गई है। कटान तेज होने से बस्ती कटान के मुहाने पहुंच गई है। अब लोगों के आशियाने कटान से महज चंद कदम दूरी पर है। वहीं क्षेत्र में रहने वाले कुछ लोग पहले ही पलायन कर चुके हैं लेकिन अभी […]

शुक्लागंज, उन्नाव गंगा का जलस्तर बढ़ने से रविदास नगर बस्ती के सामने कटान तेज हो गई है। कटान तेज होने से बस्ती कटान के मुहाने पहुंच गई है। अब लोगों के आशियाने कटान से महज चंद कदम दूरी पर है। वहीं क्षेत्र में रहने वाले कुछ लोग पहले ही पलायन कर चुके हैं लेकिन अभी भी कुछ लोग अपने आशियाने नहीं छोड़ रहे हैं। जिसे देखते हुए शनिवार को उन्नाव डीएम, एसपी, एडीएम और सिंचाई विभाग के अधिकारियों ने कटान क्षेत्र पहुंच कर जायजा लिया। जहां डीएम ने तट के किनारे बने मकानों में रहने वाले लोगों को मकान खाली करने के निर्देश दिए। इसके साथ ही उन्हंे राहत शिविर में रूकने को कहा।

शनिवार को डीएम देवेन्द्र कुमार पांडे, एसपी माधव प्रसाद वर्मा, एडीएम राकेश सिंह, शारदा नहर सिंचाई विभाग के अधिशाषी अभियंता संजीव कुमार झा मातहतों के साथ दोपहर रविदास नगर पहुंचे। जहां अधिकारियांे ने कटान का जायजा लिया। कटान का भयावह रूप देख अधिकारियों में हड़कंप मच गया। जिस पर काफी दूर तक हो रही कटान पर डीएम ने सिंचाई विभाग को निर्देश देते हुए बताया कि बल्ली और बोरी लगा कर पायलिंग का कार्य किया जाये। इसके साथ ही पेड़ांे की झाड़ियां कटान स्थल पर लगाई जाये। जिससे धारा टकरा कर कटान को रोकेगी। कई मकान कटान की जद में आ गए हैं। उन्हें तुरंत खाली करने के निर्देश दिए। उन्हें राहत शिविर में रहने को कहा। शिविर में ऐसे लोगों के लिए खाने की व्यवस्था भी कराई गई है। उन्होंने बताया कि अगर कोई मकान कट जाता है तो उसके लिए प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत घर मुहैया कराया जायेगा। अधिकारियांे ने बस्ती को अवैध करार दिया है। बस्ती के लोगों ने अधिकारियों से कटान रोकने की गुहार लगाई। जिस पर अधिशाषी अभियंता और डीएम ने बाढ़ के बाद कटान रोकने के पुख्ता इंतजाम कराने की बात कही है। इसके साथ ही बीच रेती में बना बालू के टीले को भी बाढ़ के बाद हटाया जायेगा। जिससे बस्ती की ओर गंगा की धारा न आ सके।

Report By: Ankit Kushwaha