Latest News Weekly lockdown: यूपी में संडे को वीकली लॉकडाउन, कोरोना पर योगी के 10 बड़े निर्देश घर जाने का इंतजार कर रहे प्रवासियों के लिए राहत भरी की खबर… ये हैं देश के सबसे प्रतिष्ठित साइबर वॉरियर, जानें CQ-100 में कौन-कौन हैं शामिल योगी सरकार का ‘आगरा मॉडल’ हुआ ध्वस्त,मेरठ और कानपुर भी आगरा बनने की राह पर: अजय कुमार लल्लू बाबा साहेब के संविधान से छेड़छाड़ बर्दाश्त नहीं : अजय कुमार लल्लू
Home / शुक्लागंज : गंगा का जलस्तर बढने से निचले इलाकों में बने मकानों के भरने लगा बाढ़ का पानी

शुक्लागंज : गंगा का जलस्तर बढने से निचले इलाकों में बने मकानों के भरने लगा बाढ़ का पानी

  शुक्लागंज, उन्नाव। पहाड़ों पर हो रही बारिश के कारण पश्चिम के बांधों से लगातार पानी छोड़ा जा रहा है। जिससे शुक्लागंज की ओर तेजी से पानी बढ़ने लगा है। पानी बढ़ने से रविदास नगर के सामने कटान तेज हो गई है। गुरूवार को एक मकान कटान की जद में आ कर गंगा में समां […]

 

शुक्लागंज, उन्नाव। पहाड़ों पर हो रही बारिश के कारण पश्चिम के बांधों से लगातार पानी छोड़ा जा रहा है। जिससे शुक्लागंज की ओर तेजी से पानी बढ़ने लगा है। पानी बढ़ने से रविदास नगर के सामने कटान तेज हो गई है। गुरूवार को एक मकान कटान की जद में आ कर गंगा में समां गया। मकान कटने पर जिला प्रशासन ने संज्ञान में लिया और शुक्रवार दोपहर सिंचाई विभाग शारदा नहर के अधिशाषी अभियंता रविदास नगर कटान स्थल पहुंचे। जहां उन्होंने कटान का जायजा लिया और कटान रोकने के निर्देश दिए। वहीं गंगा का जलस्तर बढने से निचले इलाकों मंे बने मकानों के आस पास बाढ़ का पानी भरने लगा है।


गुरूवार सुबह रविदास नगर निवासी अनीस का मकान कटान में कट कर गंगा में समा गया था। वहीं एजाज, विमलेश, चंद्रशेखर समेत कई मकान कटान की जद में हैं। गंगा का जलस्तर धीरे धीरे बढ़ रहा है। गुरूवार शाम चार बजे 111.090 मीटर था। शुक्रवार सुबह 111.150 मीटर पहुंच गया। जिसके बाद स्थिर रहा। जलस्तर बढ़ने से हुसैन नगर, गोताखोर, ईदगाह काॅलोनी, रविदास नगर के निचले इलाकों में पानी भरा हुआ है। वहीं रविदास नगर के सामने कटान ने भायवाह रूप धारण कर लिया है। मकान कटने के बाद डीएम देवेन्द्र कुमार पांडे के निर्देश पर सिंचाई विभाग शारदा नहर संजीव कुमार झा, सहायक अभियंता रमेश कुमार कटान स्थल पहुंचे। जहां उन्होंने जेई जमुना प्रसाद, जय प्रकाश को कटान रोकने के निर्देश दिए। विभाग ने कटान के किनारे पेड़ांे की झाड़ियां काट कर लगवाई। साथ ही नाले से जिस मकान तक कटान हुई है। इस बीच बोरियां भी लगवाने का काम कराया गया। वहीं जेसीबी से कगार की लेबलिंग कराई गई। जिससे गंगा की धारा टकरा न सके और कटान रूक जाये। वहीं क्षेत्रीय लोगों का कहना है कि जिला प्रशासन कटान रोकने में खाना पूरी कर रहा है। जिससे हम लोगों के आशियाने खतरे में हैं।

Report By : Ankit Kushwaha