Latest News Weekly lockdown: यूपी में संडे को वीकली लॉकडाउन, कोरोना पर योगी के 10 बड़े निर्देश घर जाने का इंतजार कर रहे प्रवासियों के लिए राहत भरी की खबर… ये हैं देश के सबसे प्रतिष्ठित साइबर वॉरियर, जानें CQ-100 में कौन-कौन हैं शामिल क्या आप या आपके नेटवर्क में है कोई Cyber Expert? इन 5 कैटिगरी में हो रहा है ऑल इंडिया ऑनलाइन सर्वे, आज ही करें नॉमिनेशन अफसरों की ट्रांसफर-पोस्टिंग कराने के नाम पर पैसे ऐठने वाले कथित पत्रकार को एसटीएफ़ ने किया गिरफ्तार
Home / शुक्लागंज : सीसीटीवी से खुली दरोगाओं की गुंडागर्दी का पोल

शुक्लागंज : सीसीटीवी से खुली दरोगाओं की गुंडागर्दी का पोल

Report By: Ankit Kushwaha शुक्लागंज। बीते 5 सितम्बर को कोतवाली के बिंदानगर चौकी इंचार्ज इरफान अहमद व बालूघाट चौकी इंचार्ज प्रेमनारायण ने पत्रकार को खुन्नस मे बेल्टों से पिटाई की थी उच्च अधिकारियों से शिकायत के बावजूद आरोपी दरोगा पर कार्यवाही नही किया गया जिससे आहत होकर पीड़ित पत्रकार ने मुख्यमंत्री से न्याय की गुहार […]

Report By: Ankit Kushwaha

शुक्लागंज। बीते 5 सितम्बर को कोतवाली के बिंदानगर चौकी इंचार्ज इरफान अहमद व बालूघाट चौकी इंचार्ज प्रेमनारायण ने पत्रकार को खुन्नस मे बेल्टों से पिटाई की थी उच्च अधिकारियों से शिकायत के बावजूद आरोपी दरोगा पर कार्यवाही नही किया गया जिससे आहत होकर पीड़ित पत्रकार ने मुख्यमंत्री से न्याय की गुहार लगाई है। दरोगाओं की गुंडागर्दी का कारनामा सीसीटीवी मे कैद हो गया है।

गंगाघाट कोतवाली के नशे मे धूत दो चौकी इंचार्ज इरफान अहमद व प्रेमनारायण ने बीते 5 सितम्बर को रात्रि करीब 11 बजे पत्रकार विपिन पांडे को राजधानी मार्ग से अपने निजी वाहन से पत्रकार को मारते पीटते हुए बिंदानगर चौकी ले गए और बेल्टों से जमकर पिटाई की साथी पत्रकारो को सूचना मिलने के बाद पत्रकारों के पहुचने पर पीड़ित पत्रकार को दरोगा ने छोड़ा जब पीड़ित पत्रकार ने मामले की जानकारी उन्नाव पुलिस अधीक्षक को दी तो दरोगा ने समझौता कराने के लिए नगर के कुछ लोगो से दबाव डलवाने लगा है। दरोगाओं ने पत्रकार विपिन पांडे को जिस तरह से मारपीट रहा था उसकी पूरी घटना सीसीटीवी में कैद हो गया है जिससे पुलिस जांच की पोल खुलती नजर आ रही है। कोतवाल श्याम कुमार पाल ने उल्टा पत्रकार को रोड पर शराब पीने का दोषी बना चौकी इंचार्जों को बचाने में लगे हुए है। अब देखना यह है कि सीसीटीवी कैमरा में कैद दरोगा की गुंडई का साक्ष्य मिलने के बाद आलाधिकारी आरोपी दरोगाओं पर क्या कार्यवाही करते है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार पीड़ित पत्रकार का साथ देने वाले अन्य पत्रकारो पर फर्जी मुकदमे में फंसाने की षड्यंत्र दरोगा द्वारा रचा जा रहा है नगर के पत्रकारों ने उक्त दरोगाओं का बिना हेलमेट बाइक चलाने का फोटो ट्विटर पर वायरल किया था जिससे दरोगा पत्रकारो से खुन्नस मानने लगे और उपरोक्त घटना का अंजाम दिया। पीड़ित ने मुख्यमंत्री के अलावा पुलिस महानिदेशक उत्तरप्रदेश, पुलिस महानिरीक्षक लखनऊ जोन व प्रमुख सचिव गृह को पत्र प्रेषित कर न्याय की गुहार लगाई है।