Latest News Weekly lockdown: यूपी में संडे को वीकली लॉकडाउन, कोरोना पर योगी के 10 बड़े निर्देश घर जाने का इंतजार कर रहे प्रवासियों के लिए राहत भरी की खबर… ये हैं देश के सबसे प्रतिष्ठित साइबर वॉरियर, जानें CQ-100 में कौन-कौन हैं शामिल योगी सरकार का ‘आगरा मॉडल’ हुआ ध्वस्त,मेरठ और कानपुर भी आगरा बनने की राह पर: अजय कुमार लल्लू बाबा साहेब के संविधान से छेड़छाड़ बर्दाश्त नहीं : अजय कुमार लल्लू
Home / शुक्लागंज: नगर में धूमधाम से मनाया गया शिक्षक दिवस, गुरूजनों को मिला जमकर उपहार

शुक्लागंज: नगर में धूमधाम से मनाया गया शिक्षक दिवस, गुरूजनों को मिला जमकर उपहार

Report By: Ankit Kushwaha शुक्लागंज, उन्नाव।  नगर व ग्रामीण क्षेत्र के स्कूलों में बड़े ही हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। जिसमें विद्यालयों में हुए कार्यक्रमों में गुरूजनों को उपहार देकर उनका सम्मान किया गया। इस मौके पर शिक्षकों ने बच्चों को शिक्षक के विषय में जानकारी भी दी। डॉ0 सर्वपल्ली राधाकृष्णन के जन्मदिवस के रूप […]

Report By: Ankit Kushwaha

शुक्लागंज, उन्नाव  नगर व ग्रामीण क्षेत्र के स्कूलों में बड़े ही हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। जिसमें विद्यालयों में हुए कार्यक्रमों में गुरूजनों को उपहार देकर उनका सम्मान किया गया। इस मौके पर शिक्षकों ने बच्चों को शिक्षक के विषय में जानकारी भी दी।

डॉ0 सर्वपल्ली राधाकृष्णन के जन्मदिवस के रूप में मनाया जाने वाला शिक्षक दिवस पर नगर व ग्रामीण के तमाम विद्यालयों में बड़े ही धूमधाम से मनाया गया। सुबह से विद्यालय के बच्चों ने अपनी अपनी कक्षाओं को सजाया। जिसके बाद शिक्षकों से केक कटवा कर उन्हें उपहार दिए। वहीं पोनी रोड स्थित दयानंद सरस्वती इंटर कॉलेज के बच्चों ने शिक्षक दिवस हर्षोल्लास के साथ मनाया। जहां सुधा तिवारी, संतोष तिवारी मौजूद रहे। वहीं शिवम कान्वेंट, अंबिका प्रसाद, लोहिया शिक्षा निकेतन, प्रभा कान्वेंट, ऊं विद्या मंदिर, अवंतीबाई, पूर्णिमा विद्या मंदिर देवारा कलां, शिवांश कान्वेंट, संत विवेकानंद पब्लिक स्कूल, ब्राइट कैरियर, शिखर, बिट् एंड बाइट कम्प्यूटर संस्थान, सरस्वती शिशु मंदिर गोपीनाथ व गंगा नगर स्कूल में शिक्षक दिवस मनाया गया।

स्कूल प्रबंधकों ने बताया कि डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन के सम्मान में शिक्षक दिवस मनाया जाता है, जो देश के पहले उपराष्ट्रपति और दूसरे राष्ट्रपति थे। वह एक महान दार्शनिक, शिक्षक और विद्वान भी थे। वह पूरी दुनिया को ही एक स्कूल मानते थे। डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन का जन्म 5 सितंबर 1888 को तमिलनाडु के तिरूतनी गांव में हुआ। राजनीति में आने से पहले उन्होंने अपने जीवन के 40 साल अध्यापन को दिए थे। राधाकृष्णन का मानना था कि बिना शिक्षा के इंसान कभी भी मंजिल तक नहीं पहुंच सकता है इसलिए इंसान के जीवन में एक शिक्षक का होना बहुत जरूरी है।