Latest News Weekly lockdown: यूपी में संडे को वीकली लॉकडाउन, कोरोना पर योगी के 10 बड़े निर्देश घर जाने का इंतजार कर रहे प्रवासियों के लिए राहत भरी की खबर… ये हैं देश के सबसे प्रतिष्ठित साइबर वॉरियर, जानें CQ-100 में कौन-कौन हैं शामिल योगी सरकार का ‘आगरा मॉडल’ हुआ ध्वस्त,मेरठ और कानपुर भी आगरा बनने की राह पर: अजय कुमार लल्लू बाबा साहेब के संविधान से छेड़छाड़ बर्दाश्त नहीं : अजय कुमार लल्लू
Home / शुक्लागंज: बच्चा चोर समझ एनआरएलएम के कार्यकत्रियों पर ग्रामीणों ने बोला धाबा

शुक्लागंज: बच्चा चोर समझ एनआरएलएम के कार्यकत्रियों पर ग्रामीणों ने बोला धाबा

Report By: Ankit Kushwaha शुक्लागंज, उन्नाव। शुक्रवार देर शाम राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन की पांच सदस्यीय महिलाओं की टीम देवारा खुर्द गांव में बेरोजगार महिलाओं को प्रशिक्षण देने के लिए पंचायत घर पहुंची। ग्रामीणों ने बच्चा चोर समझकर उन पर धावा बोल दिया। सूचना पर पहुंची पुलिस ने किसी तरह महिलाओं को सुरक्षित निकाला। जिसके […]

Report By: Ankit Kushwaha

शुक्लागंज, उन्नाव शुक्रवार देर शाम राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन की पांच सदस्यीय महिलाओं की टीम देवारा खुर्द गांव में बेरोजगार महिलाओं को प्रशिक्षण देने के लिए पंचायत घर पहुंची। ग्रामीणों ने बच्चा चोर समझकर उन पर धावा बोल दिया। सूचना पर पहुंची पुलिस ने किसी तरह महिलाओं को सुरक्षित निकाला। जिसके बाद पांचों महिलाओं की तहरीर पर तीन ज्ञात समेत तीस के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया है।

शुक्रवार शाम राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन की शांति, दाया, रेशमी, रजनी गुप्ता, लीलावती देवारा खुर्द स्थित पंचायत भवन पहुँची। इस दौरान गांव में अजनबी महिलाओं को देख 15 से 20 महिलाएं वहां पहुंच गई। जहां एक छोटे बच्चे को देखकर महिलाओं ने उन्हें बच्चा चोर समझकर उन पर धावा बोल दिया। इस बीच गांव के कुछ पुरुष भी वहां पहुंच गए और बच्चा चोर कहने लगे। सूचना पर ग्राम प्रधान राजेंद्र लोधी अपने साथियों के साथ मौके पर पहुंचे और भीड़ को हटाकर महिलाओं को सुरक्षित किया। ग्रामीणों ने डायल हंड्रेड पुलिस को सूचना दी।

पुलिस फोर्स के साथ इंस्पेक्टर श्याम कुमार पाल मौके पर पहुंचे। पूछताछ करने के बाद कुछ ग्रामीणों को हिरासत में लिया है। ब्लॉक मैनेजर नीरज कुमार और जितेंद्र शुक्ला भी पहुंच गए। उन्होंने बताया कि एक गांव में समूह की 5 महिलाओं द्वारा बेरोजगार महिलाओं को इस मिशन के तहत रोजगार संबंधित प्रशिक्षण देने के लिए पहुंची थी। ब्लॉक के 3 पंचायतों में 45 दिन तक इन महिलाओं को प्रशिक्षण देने के लिए भेजा गया था। टीम की पांचों महिलाओं की तहरीर पर गांव के टिल्लू, मोनू, राकेश व तीस अज्ञात के खिलाफ गंगाघाट पुलिस ने गंभीर धाराआंे में मुकदमा दर्ज किया है। इंस्पेक्टर श्याम कुमार पाल ने बताया कि आरोपियांे की गिरफ्तारी के लिए दबिशे दी जा रही हैं।