Latest News Kanpur: 32 साल पहले पाकिस्तान से भारत आया परिवार, पहचान छिपाई, घर भी बना लिया और मिल गई सरकारी नौकरी , अब कोर्ट ने लिया संज्ञान Weekly lockdown: यूपी में संडे को वीकली लॉकडाउन, कोरोना पर योगी के 10 बड़े निर्देश घर जाने का इंतजार कर रहे प्रवासियों के लिए राहत भरी की खबर… ये हैं देश के सबसे प्रतिष्ठित साइबर वॉरियर, जानें CQ-100 में कौन-कौन हैं शामिल योगी सरकार का ‘आगरा मॉडल’ हुआ ध्वस्त,मेरठ और कानपुर भी आगरा बनने की राह पर: अजय कुमार लल्लू
Home / आपत्तिजनक सामग्री पर Tik Tok की कड़ी कार्रवाई, भारत में हटाए गए 60 मिलियन से अधिक वीडियो

आपत्तिजनक सामग्री पर Tik Tok की कड़ी कार्रवाई, भारत में हटाए गए 60 मिलियन से अधिक वीडियो

ऐप के जरिए छोटे मनोरंजन वीडियो बनाने की सुविधा देने वाली कंपनी ने भारत में 60 मिलियन से अधिक वीडियो को हटा दिया है। मद्रास उच्च न्यायालय ने कुछ दिन पहले ही Tik Tokपर एक मामले की सुनवाई करते हुए केंद्र सरकार को इस ऐप को प्रतिबंधित करने का आदेश दिया है। The Republic India : […]

ऐप के जरिए छोटे मनोरंजन वीडियो बनाने की सुविधा देने वाली कंपनी ने भारत में 60 मिलियन से अधिक वीडियो को हटा दिया है। मद्रास उच्च न्यायालय ने कुछ दिन पहले ही Tik Tokपर एक मामले की सुनवाई करते हुए केंद्र सरकार को इस ऐप को प्रतिबंधित करने का आदेश दिया है।

The Republic India : ऐप के माध्यम से छोटे मनोरंजन वीडियो बनाने की सुविधा देने वाले Tik Tok ने भारत में 60 लाख से अधिक वीडियो हटा दिए हैं। कंपनी का कहना है कि उसने पिछले साल जुलाई से अपने सामुदायिक नियमों का उल्लंघन करने वाले वीडियो हटा दिए हैं।

आपको बता दें कि मद्रास हाईकोर्ट ने कुछ दिन पहले ही Tik Tok पर एक मामले की सुनवाई करते हुए केंद्र सरकार को इस ऐप को प्रतिबंधित करने का आदेश दिया है। कोर्ट ने पाया था कि इस ऐप पर कई आपत्तिजनक वीडियो हैं, जो बच्चों के लिए सही नहीं हैं।

कंपनी ने एक बयान में कहा, “यह अपने उपयोगकर्ताओं को सुरक्षित और आरामदायक महसूस कराने के प्रयासों का एक हिस्सा है। इसके अलावा, रणनीति समाज के भीतर सही चीजें देकर उन्हें सशक्त बनाने का प्रयास करती है।”

इसके अलावा, टकर ऐप का इस्तेमाल करने वाले बच्चे 13 साल की उम्र से ऊपर इसका इस्तेमाल कर सकेंगे। इसके लिए कंपनी ने एक अलग पैमाना बनाया है। कंपनी का कहना है कि यह एक अतिरिक्त सुरक्षा मानक है ताकि युवा उपयोगकर्ता इस ऐप का उपयोग न कर सकें।

टोलोक (ग्लोबल पब्लिक पॉलिसी) की निदेशक हेलेना लेर्च ने कहा, “वैश्विक समुदाय के रूप में सुरक्षा टिकट की प्राथमिकताओं में से एक है। इन कदमों से हम अपने भारतीय उपयोगकर्ताओं को अपने प्लेटफ़ॉर्म को सुरक्षित और सकारात्मक बनाए रखने की प्रतिबद्धता को फिर से आश्वस्त करेंगे।”

यह घोषणा कंपनी ने टिकट सुरक्षा केंद्र के शुभारंभ के बाद की है। साथ ही कंपनी ने खतरे की गतिविधियों से निपटने के लिए 10 स्थानीय भाषाओं जैसे हिंदी, गुजराती, मराठी, बंगाली, पंजाबी, तेलुगु, तमिल, कन्नड़, मलयालम और उड़िया में मदद पेज भी शुरू किए हैं।