Latest News Weekly lockdown: यूपी में संडे को वीकली लॉकडाउन, कोरोना पर योगी के 10 बड़े निर्देश घर जाने का इंतजार कर रहे प्रवासियों के लिए राहत भरी की खबर… ये हैं देश के सबसे प्रतिष्ठित साइबर वॉरियर, जानें CQ-100 में कौन-कौन हैं शामिल क्या आप या आपके नेटवर्क में है कोई Cyber Expert? इन 5 कैटिगरी में हो रहा है ऑल इंडिया ऑनलाइन सर्वे, आज ही करें नॉमिनेशन अफसरों की ट्रांसफर-पोस्टिंग कराने के नाम पर पैसे ऐठने वाले कथित पत्रकार को एसटीएफ़ ने किया गिरफ्तार
Home / विश्वविद्यालयों में होना चाहिए समाज की समस्याओं का समाधान : आनंदीबेन पटेल

विश्वविद्यालयों में होना चाहिए समाज की समस्याओं का समाधान : आनंदीबेन पटेल

अयोध्या। राज्यपाल आनंदीबेन पटेल का बयान।समाज में जितनी भी समस्याएं हैं जितनी बीमारियां हैं इसके पीछे क्या कारण है इन सब का समाधान विश्वविद्यालयो में होना चाहिए। हम पढ़े लिखों का कुछ दायित्व भी है समाज के प्रति। सभी विश्वविद्यालय व कॉलेज 5-10 गांव ले गोद। गोद लिए गांव में एक भी बच्चा नहीं रहना […]

अयोध्या। राज्यपाल आनंदीबेन पटेल का बयान।समाज में जितनी भी समस्याएं हैं जितनी बीमारियां हैं इसके पीछे क्या कारण है इन सब का समाधान विश्वविद्यालयो में होना चाहिए। हम पढ़े लिखों का कुछ दायित्व भी है समाज के प्रति। सभी विश्वविद्यालय व कॉलेज 5-10 गांव ले गोद। गोद लिए गांव में एक भी बच्चा नहीं रहना चाहिए अनपढ़। सभी कक्षा 8 के छात्र कक्षा 9 में दाखिल होना चाहिए। गोद लिये गांव की गर्भवती महिलाएं स्वस्थ बच्चे का जन्म दे इसका प्रयास होना चाहिए। उनके खानपान पर ध्यान देने की जरूरत। विश्वविद्यालयों में पढ़ रही सभी छात्राओं का चेक हो हिमोग्लोबिन। विश्वविद्यालय में पढ़ रही छात्राओं का हीमोग्लोबिन 7-8 ग्राम होता है। जब यही छात्राएं विवाह कर बच्चे को जन्म देती हैं तो वो बच्चे स्वस्थ नहीं होते।

सरकार इन गर्भवती महिलाओं पर पैसे खर्च रही लेकिन सकारात्मक परिणाम नहीं आ रहे।बच्ची जिस घर में पैदा होती है उसी घर से बचपन से ही उस पर ध्यान देने की जरूरत। समय-समय पर हीमोग्लोबिन चेक करवाते रहने की जरूरत। महिलाओं की खराब सेहत चिंता का विषय- राज्यपाल आनंदीबेन पटेल।राज्यपाल आनंदीबेन पटेल आज अवध विश्वविद्यालय के मेधावी छात्रों को वितरित किए गोल्ड मेडल।मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक रहे मुख्य अतिथि। पर्वतारोही अरुणिमा सिन्हा विशिष्ट अतिथि के रूप में रही मौजूद।अरुणिमा सिन्हा को दी गई मानद उपाधि।