होम / वाराणसी: मुठभेड़ में दो इनामी बदमाश गिरफ्तार, रिवाल्वर, पिस्टल, 15 कारतूस और बाइक बरामद

वाराणसी: मुठभेड़ में दो इनामी बदमाश गिरफ्तार, रिवाल्वर, पिस्टल, 15 कारतूस और बाइक बरामद

  वाराणसी। रिंग रोड के समीप ऐढे़ में गुरुवार की रात मुठभेड़ में दो इनामी बदमाश गिरफ्तार किए गए। दोनों की शिनाख्त 25 हजार के इनामी बदमाश दीपक राजभर उर्फ मान्या और 15 हजार के इनामी बदमाश शैलेश पटेल के तौर पर हुई है। पुलिस की गोली से घायल दोनों बदमाशों को दीनदयाल अस्पताल में […]

 

वाराणसी रिंग रोड के समीप ऐढे़ में गुरुवार की रात मुठभेड़ में दो इनामी बदमाश गिरफ्तार किए गए। दोनों की शिनाख्त 25 हजार के इनामी बदमाश दीपक राजभर उर्फ मान्या और 15 हजार के इनामी बदमाश शैलेश पटेल के तौर पर हुई है। पुलिस की गोली से घायल दोनों बदमाशों को दीनदयाल अस्पताल में भर्ती कराया गया है। दोनों के पास से .32 बोर की देसी रिवाल्वर, .32 बोर की देसी पिस्टल, 15 कारतूस और बगैर नंबर की बाइक बरामद की गई है। दोनों बदमाश सथवां के पूर्व प्रधान राजेश पटेल के अपहरण व रंगदारी मांगने और मढ़वा के दिव्यांग दुकानदार दिलीप पटेल की हत्या व मजदूर अजीमुद्दीन की हत्या के प्रयास में वांछित थे। मुठभेड़ के दौरान दोनों का सरगना एक लाख का इनामी बदमाश झुन्ना पंडित अपने गुर्गे टुनटुन पटेल के साथ भाग निकला।

क्राइम ब्रांच प्रभारी विक्रम सिंह को सूचना मिली थी कि दो बाइक पर सवार बदमाश रिंग रोड से होकर लमही की ओर जा रहे हैं। इस सूचना पर क्राइम ब्रांच प्रभारी ने इंस्पेक्टर अश्वनी चतुर्वेदी के साथ ऐढ़े स्थित हेलीपैड के समीप वाहन चेकिंग शुरू कराई। दो बाइक पर सवार युवकों को पुलिस ने रुकने का इशारा किया तो वह भागने लगे। पुलिस टीम ने पीछा किया तो बदमाशों ने फायरिंग शुरू कर दी। तकरीबन 13 से 15 राउंड हुई फायरिंग में सोयेपुर निवासी दीपक के दाएं और हासिमपुर के शैलेश के बाएं पैर में गोली लगी। बदमाशों ने इंस्पेक्टर कैंट के सीने को लक्ष्य कर गोली मारी थी, लेकिन बुलेट प्रूफ जैकेट पहने होने के कारण वह बाल-बाल बच गए। इनामी झुन्ना और उसके गुर्गे की तलाश में देर रात तक ऐढ़े और आसपास के गांव में पुलिस की कांबिंग जारी रही।

दोनों से पूछताछ करेंगे, खंगाली जाएगी कॉल डिटेल

बदमाशों से मुठभेड़ की सूचना पाकर ऐढ़े गांव में सीओ कैंट डॉ. अनिल कुमार, एसपी क्राइम ज्ञानेंद्र और एसपी सिटी दिनेश कुमार सिंह के साथ एसएसपी पहुंचे। एसएसपी आनंद कुलकर्णी ने बताया कि दोनों बदमाशों के पास से बरामद मोबाइल की कॉल डिटेल खंगाली जाएगी। दोनोें से पूछताछ कर उनके गिरोह के सरगना झुन्ना और अन्य बदमाशों के बारे में जानकारी जुटाई जाएगी। झुन्ना और उसके गिरोह के अन्य बदमाशों की तलाश में क्राइम ब्रांच और कैंट पुलिस की तीन टीमें लगाई गई है। एसएसपी ने बताया कि बदमाशोें की गिरफ्तारी में क्राइम ब्रांच प्रभारी विक्रम सिंह, कैंट इंस्पेक्टर अश्वनी चतुर्वेदी, एसआई प्रदीप यादव, सुमंत सिंह, पुनदेव सिंह, घनश्याम वर्मा, रामभवन यादव, सुरेंद्र मौर्या, कुलदीप सिंह, चंद्रसेन सिंह और रामानंद यादव शामिल रहे।

दिल्ली में छुपा झुन्ना पैसे लेना जा रहा था लमही

दोनों बदमाशों ने प्रारंभिक पूछताछ में बताया कि मढ़वा के दिव्यांग दुकानदार की हत्या के बाद झुन्ना पंडित मिर्जापुर और फिर नई दिल्ली में छुपा था। उसके पैसे खत्म हो गए थे तो लमही के एक काश्तकार को उसने व्यवस्था करने को कहा था। इसी वजह से झुन्ना वापस बनारस आया था और उन दोनों व टुनटुन को लेकर काश्तकार के पास जा रहा था। हालांकि दोनों बदमाश काश्तकार का नाम नहीं बता सके। दोनों ने बताया कि काश्तकार कौन था, इस बारे में सिर्फ झुन्ना जानता है।

Report By: Juniad Khan & Khursid Alam