Latest News Weekly lockdown: यूपी में संडे को वीकली लॉकडाउन, कोरोना पर योगी के 10 बड़े निर्देश घर जाने का इंतजार कर रहे प्रवासियों के लिए राहत भरी की खबर… ये हैं देश के सबसे प्रतिष्ठित साइबर वॉरियर, जानें CQ-100 में कौन-कौन हैं शामिल योगी सरकार का ‘आगरा मॉडल’ हुआ ध्वस्त,मेरठ और कानपुर भी आगरा बनने की राह पर: अजय कुमार लल्लू बाबा साहेब के संविधान से छेड़छाड़ बर्दाश्त नहीं : अजय कुमार लल्लू
Home / वाराणसी: ग्राम विकास अधिकारी एसोसिएशन व ग्राम पंचायत अधिकारी संघ का धरना खत्म

वाराणसी: ग्राम विकास अधिकारी एसोसिएशन व ग्राम पंचायत अधिकारी संघ का धरना खत्म

Report By: Junaid Khan वाराणसी।  ग्राम विकास अधिकारी एसोसिएशन व ग्राम पंचायत अधिकारी संघ समन्वय समिति उ0प्र0 के द्वारा एक दिवसीय धरने का आयोजन वरूणा पुल पर किया गया. इस मौके पर संघ के मुख्य सचिव महोदय को दिये गये नोटिस समन्वय समिति की वाराणसी शाखा द्वारा जिलाधिकारी को तीन सूत्रीय मांग पत्र दिया गया. क्या […]

Report By: Junaid Khan

वाराणसी  ग्राम विकास अधिकारी एसोसिएशन व ग्राम पंचायत अधिकारी संघ समन्वय समिति उ0प्र0 के द्वारा एक दिवसीय धरने का आयोजन वरूणा पुल पर किया गया. इस मौके पर संघ के मुख्य सचिव महोदय को दिये गये नोटिस समन्वय समिति की वाराणसी शाखा द्वारा जिलाधिकारी को तीन सूत्रीय मांग पत्र दिया गया.

क्या थी  तीन सूत्रीय मांग?

1. ग्राम सचिवों की शैक्षिक योग्यता
स्नातक व कम्प्यूटर में डिप्लोमा।
2 ग्रेड पे 2800/-।
3. सेवाकाल के दौरान तीन पदोन्नति वेतनमान पर गठित उच्चस्तरीय समिति के रिपोर्ट को लागू करने के समर्थन
में तथा विभागीय कार्यक्रमों के संचालन गोवंश आश्रय योजना में प्रति पशु धनराशि रू०30 प्रतिदिन से बढ़ाने, प्रधानमंत्री आवास योजना में सिर्फ ग्राम सचिवों को जिम्मेदार बताना बल्कि हलफनामा देने के उपरान्त भी आवास पूर्ण न करने वाले लाभार्थियों पर कार्यवाही न करना, स्वच्छ भारत मिशन के अन्तर्गत बने शौचालयों के रख-रखाव के लिए लाभार्थी की जिम्मेदारी नियत करना आदि आ रही व्यवहारिक कठिनाईयों को दूर कर उत्पीड़न रोकने के लिये एक दिवसीय “ध्यानाकर्षण दिवस” शास्त्री घाट वरूणा पुल पर सम्पन्न हुआ ।

सुनील पाण्डेय ग्राम विकास अधिकारी संघ जिला मंत्री वाराणसी

जिसमें जनपद के समस्त ग्राम विकास अधिकारियों व ग्राम पंचायत अधिकारियों ने उत्साह से प्रतिभाग किया व सरकार
को चेताया। कार्यक्रम को मुख्य रूप से अजय सिंह, श्रीकान्त उपाध्याय, अशोक चौबे, हरिवंश सिंह, ओमकार, आनन्द मिश्रा तथा उपेन्द्र दीक्षित ने सम्बोधित किया अध्यक्षता बृजेश सिंह व सीताराम ने संयुक्त रूप से किया तथा संचालन सुनील पाण्डेय ने किया