Latest News Kanpur: 32 साल पहले पाकिस्तान से भारत आया परिवार, पहचान छिपाई, घर भी बना लिया और मिल गई सरकारी नौकरी , अब कोर्ट ने लिया संज्ञान Weekly lockdown: यूपी में संडे को वीकली लॉकडाउन, कोरोना पर योगी के 10 बड़े निर्देश घर जाने का इंतजार कर रहे प्रवासियों के लिए राहत भरी की खबर… ये हैं देश के सबसे प्रतिष्ठित साइबर वॉरियर, जानें CQ-100 में कौन-कौन हैं शामिल योगी सरकार का ‘आगरा मॉडल’ हुआ ध्वस्त,मेरठ और कानपुर भी आगरा बनने की राह पर: अजय कुमार लल्लू
Home / भारतीय क्रिकेटर मोहम्मद शमी के खिलाफ जारी हुआ गिरफ्तारी का वारंट

भारतीय क्रिकेटर मोहम्मद शमी के खिलाफ जारी हुआ गिरफ्तारी का वारंट

क्रिकेट | कोलकाता की अलीपुर अदालत ने भारतीय क्रिकेटर मोहम्मद शमी के खिलाफ के खिलाफ घरेलू हिंसा के मामले में गिरफ्तारी वारंट जारी किया है. शमी के खिलाफ 2018 में उनकी पत्नी हसीन जहां ने मामला दर्ज करवाया था जिसके संदर्भ में उनके खिलाफ यह वारंट जारी किया गया है. भारतीय तेज गेंदबाज को सरेंडर […]

क्रिकेट | कोलकाता की अलीपुर अदालत ने भारतीय क्रिकेटर मोहम्मद शमी के खिलाफ के खिलाफ घरेलू हिंसा के मामले में गिरफ्तारी वारंट जारी किया है. शमी के खिलाफ 2018 में उनकी पत्नी हसीन जहां ने मामला दर्ज करवाया था जिसके संदर्भ में उनके खिलाफ यह वारंट जारी किया गया है.

भारतीय तेज गेंदबाज को सरेंडर करने और जमानत के लिए अप्लाइ करने के लिए 15 दिनों का समय दिया गया है. हालांकि भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआइ) ने साफ कर दिया है कि जब तक वह चार्जशीट नहीं देखते तब तक शमी के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की जाएगी.

BCCI ने दिया ये बयान

बीसीसीआइ के एक अधिकारी ने बताया कि अभी इस मामले पर किसी भी तरह का ऐक्शन लेना जल्दबाजी होगी. एक बार चार्जशीट देखने के बाद ही हम कोई फैसला ले पाएंगे. अधिकारी ने कहा कि हम समझते हैं कि गिरफ्तारी वारंट जारी किया गया है. लेकिन हमें नहीं लगता कि हमें अभी इस मामले में दखल देने की जरूरत है. एक बार हम चार्जशीट देख लें तब हम तय करेंगे कि क्या बीसीसीआइ के संविधान के अनुसार कोई एक्शन लेने की जरूरत है. लेकिन इस समय तो मैं यही कह सकता हूं कि कुछ भी करना जल्दबाजी होगी.

अनुबंध किया गया था खत्म

अधिकारी से जब पूछा गया कि क्या शमी के खिलाफ 2018 में सीओए ने अनुबंध को रोक लेने की नीति अपनाई थी, क्या वही नीति इस बार भी अपनाई जाएगी तो अधिकारी ने कहा कि तब इस मामले का संबंध मैच फिक्सिंग से अधिक था जिसका आरोप उनकी पत्नी ने लगाया था. अधिकारी ने कहा कि वह अलग था. शमी पर उस समय यह आरोप थे कि वह मैच फिक्सिंग में शामिल रहे हैं. इसलिए तब सीओए को लगा था कि भ्रष्टाचार रोधी इकाई (एसीयू) के तत्कालीन अध्यक्ष नीरज कुमार का इस मामले को देखना उपयुक्त होगा। नीरज ने अपनी जांच में शमी को निर्दोष पाया था. इसके बाद उनका अनुबंध बहाल किया गया.

वापस आकर उठाएंगे जरूरी कदम

उन्होंने कहा कि इस बार यह मामला घरेलू हिंसा का है। इस समय जो स्थिति है उसे देखते हुए उनका अनुबंध खत्म करने की जरूरत नहीं है. मुझे पूरी उम्मीद है कि शमी एक बार जब देश वापस आ जाएंगे, तब वो सभी जरूरी कदम उठाएंगे. शमी इस समय किंग्सटन में विंडीज के साथ जारी दूसरे टेस्ट मैच में हिस्सा ले रहे हैं.