Sun. Aug 25th, 2019

दिवाली के दूसरे दिन क्यों होती है गोवर्धन पूजा और क्या है महत्व

7 min read
breaking news, today news

The Republic India

The Republic India : दिवाली के दूसरे दिन क्यों होती है गोवर्धन पूजा और क्या है महत्व

दिवाली के दुसरे दिन गोवर्धन पूजा की जाती है.इस साल 8 नवंबर को गोवर्धन पूजा की जाएगी.कार्तिक मास शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि को गोवर्धन पूजा मनाया जाता है.इस त्योहार को सबसे ज्यादा श्री कृष्ण की जन्मभूमि में यानि  मथुरा, काशी, गोकुल, वृ्न्दावन में मनाया जाता है.इसके अलावा लोग अपने-अपने घरों पर भी गोवर्धन पूजा का पर्व मनाते हैं.

गोवर्धन पूजा का महत्व

कहा जाता है कि एक बार भगवान श्री कृ्ष्ण अपनी गोपियों और ग्वालों के साथ गाय चरा रहे थे. गायों को चराते हुए श्री कृ्ष्ण जब गोवर्धन पर्वत पर पहुंचे तो गोपियां 56 प्रकार के भोजन बनाकर बड़े उत्साह से नाच-गा रही थीं.जब उन्होनें गोपियों से पूछा कि यह क्या हो रहा है तो उन्हें बताया गया कि सब देवराज इन्द्र की पूजा करने के लिए किया जा रहा है. देवराज इन्द्र प्रसन्न होने पर हमारे गांव में वर्षा करेंगे, जिससे अन्न पैदा होगा.इस पर भगवान श्री कृष्ण ने समझाया कि इससे अच्छे तो हमारे पर्वत है, जो हमारी गायों को भोजन देते हैं.

ब्रज के लोगों ने श्री कृ्ष्ण की बात मानी और गोवर्धन पर्वत की पूजा करनी प्रारम्भ कर दी. जब इन्द्र देव ने देखा कि सभी लोग मेरी पूजा करने के स्थान पर गोवर्धन पर्वत की पूजा कर रहे है तो उन्हें बिल्कुल अच्छा नहीं लगा.इन्द्र गुस्से में आ गए और उन्होंने मेघों को आज्ञा दी कि वे गोकुल में जाकर खूब बरसे, जिससे वहां का जीवन अस्त-व्यस्त हो जाए.

अपने देव का आदेश पाकर मेघ ब्रजभूमि में मूसलाधार बारिश करने लगें.ऐसी बारिश देख कर सभी भयभीत हो गए ओर दौड़ कर श्री कृ्ष्ण की शरण में पहुंचे. श्री कृ्ष्ण ने सभी को गोवर्धन पर्वत की शरण में चलने को कहा.जब सब गोवर्धन पर्वत के निकट पहुंचे तो श्री कृ्ष्ण ने गोवर्धन को अपनी कनिष्का उंगली पर उठा लिया. सभी ब्रजवासी भाग कर गोवर्धन पर्वत की नीचे चले गए.

 

ब्रजवासियों पर एक बूंद भी जल नहीं गिरा. यह चमत्कार देखकर इन्द्रदेव को अपनी गलती का अहसास हुआ और वह श्री कृ्ष्ण से क्षमा मांगने लगे.सात दिन बाद श्री कृ्ष्ण ने गोवर्धन पर्वत नीचे रखा. इसके बाद ब्रजबासी हर साल गोवर्धन पूजा करने लगे.


Also read this……

केदारनाथ की भव्यता को देखने पहुचें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी…

270 Post Views

1 thought on “दिवाली के दूसरे दिन क्यों होती है गोवर्धन पूजा और क्या है महत्व

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *



The Republic India News Group Websites:

Hindi News     English News    Corporate Wesbite    

Social Media

                    

ABOUT US     FEEDBACK    CAREERS    OUR HAND    REPORTERS    ADVERTISE WITH US    SITE MAP    DISCLAIMER    CONTACT US    PRIVACY POLICY EDITORS